Tuesday, April 10, 2012

मेरी दुनिया है तू...

अपने दिल के सिवा न किसी की सुनी
राह मुश्किल ही सही तूने खुद ही चुनी
तेरी अपनी अदा तेरी अपनी खुदी
इसीलिये तो तुझ पर सर झुकाता हुं
मेरी दुनिया है तू, तेरी दुनिया हूं मैं,
मुझमें जिन्दा है तू, तुझमे जिन्दा हूं मैं...!

No comments:

Post a Comment